09 September, 2016

गली क्रिकेट

बात करे क्रिकेट की तो लगभग सभी ने इस खेल को जरूर खेला होगा और समय मिलने पर आज भी शायद आप इसे खेलते होंगे लेकिन बचपन की बात ही कुछ और होती है । अगर आपके पास बड़ा मैदान है तो शायद आपने स्टैण्डर्ड क्रिकेट का लाभ उठाया होगा परंतु बहुत बार जगह की कमी के होने की वजह से बच्चे गलियों में, सोसाइटी में ही क्रिकेट खेलने लगते है । जो रोचक बात इसको स्टैण्डर्ड क्रिकेट से अलग बनाती है वो है इसके नियम । तो आइये आज हम गली क्रिकेट की ही बात करते है --  

क्रिकेट किट ( क्रिकेट का सामान )

1. बैट ( बल्ला ) - बल्ला है तो अच्छी बात है, नहीं तो किसी लकड़ी का फट्टा भी चलेगा ।

2. बॉल - प्लास्टिक की बॉल, कॉस्को की बॉल, और तो और कपड़े की बॉल से खेलते है बहुत कम जगह ही लेदर की बॉल से खेलते है । 

3. विकेट - किसी दीवार का पिलर, पत्थरों या ईटों का विकेट, कोई बाल्टी या दो पत्थर कुछ दूरी पर लगा लो अगर उनके बीच से बॉल चली जाये तो आउट । 

अंपायर - वो खिलाड़ी जो दोनों तरफ से सिर्फ बैटिंग करता है बॉलिंग और फील्डिंग नहीं । बाकी टाइम उसका काम सिर्फ अंपायरिंग करना होता है । हाँ जब वो बैटिंग कर रहा हो तो उस समय उसकी जगह अंपायरिंग बैटिंग टीम का कोई अन्य सदस्य करता है । 
या फिर अंपायर बैटिंग टीम का ही कोई सदस्य बनता है । और जो दोनों तरफ से खेलता है उसको कॉमन प्लेयर बोल देते है । 


नियम

नियमों की सूची तो गल्ली क्रिकेट में बहुत लम्बी है क्योंकि हर जगह अलग- अलग नियम चलते है फिर भी कुछ सामान्य नियम निम्न है  -

1. ट्राय बॉल - पहली फेंकी जाने वाली बॉल ट्राय बॉल होती है । 

2. वन टिप वन हैण्ड (One tip One Hand) - बल्ले से लगने के बाद बॉल एक टिप (टप्पा ) खा जाये और फिर फील्डर ने उसे एक हाथ से कैच कर लिया तो उसे वन टिप वन हैण्ड कहते है इससे बैट्समैन आउट हो जाता है । 

3. तेज बॉल फैंकने की नहीं होगी । 

4. तेज शॉट मारा और बॉल दूर चले गयी तो आउट और बॉल भी खुद बैट्समैन को लानी होगी । 

5. बॉल किसी स्पेशल एरिया, दीवार या नाली में गयी तो आउट होगा । 

6. बॉल किसी के घर पर चली जाए तो आउट होगा । 

7. आखिरी बचा बैट्समैन अकेला खेल सकता है । 

8. अगर बॉलर अधिक रन पीटा रहा है तो वो रिटायर या बेबी ओवर

9. लगातार तीन वाइट फैंकी तो ओवर डिसमिस हो जाता है । 

10. दीवार में डायरेक्ट बॉल लगी तो 6, और टप्पा खा कर लगी तो 4 रन होंगे । चौके और छक्के के अलग- अलग नियम भी हो सकते है । 
11.  जो मैच को बीच में छोड़ कर जायेगा, उसे अगले दिन नहीं खिलायेंगे । 


बेईमानियाँ -

अंपायर बैटिंग टीम का ही होता है तो बहुत बार चीटिंग हो जाती है । 

एल. पी. डब्लू, स्टंपिंग, रन आउट को नहीं मानना और कई बार तो रन आउट डिक्लेयर करने के लिए कोई बंदा रखना पड़ता है जो दोनों टीमों से नहीं खेल रहा हो । 

जिसका बल्ला बॉल उसकी चलेगी । वरना वो अपना बल्ला बॉल ले कर चल देता है । 

रनों में बेईमानी करना । अक्सर रन दूसरी टीम को याद नहीं रहते । तो लोग कम रन बना कर ज्यादा बता देते है और अगर दूसरी टीम का कोई सदस्य रन याद कर रहा हो तो लड़ाई हो जाती है । 


आशा करता हूँ  आपको इस लेख के द्वारा गली क्रिकेट के वे दिन याद जरूर आये होंगे और अगर आपके वहाँ कुछ अलग नियम चलते हो तो आप हमें कमैंट्स लिख कर जरूर बतायें । 

No comments:

Post a comment