16 September, 2016

आधुनिक जीवन-शैली और स्वास्थ्य

हम आज आधुनिक जीवन शैली में रहते है । जहाँ एक ओर तकनीकी ने हमारे जीवन को बहुत सुविधाजनक और आरामदेय बना दिया है वही दूसरी ओर खानपान की आदतों और जीवन शैली ने जिस चीज़ को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है वह है मानव स्वास्थ्य । वस्तुतः जीवन शैली हमारे हर दिन के कामों और व्यवहारों का ही रूप है, जिसके अंतर्गत जो काम हम करते है, खान पान, खाली समय में क्या करते है, हमारा व्यवहार आते है । इस जीवन शैली ने मानव स्वास्थ्य पर क्या- क्या प्रभाव डाले है आज उन पर चर्चा करते है -

आधुनिक जीवन-शैली व बीमारियाँ 


गुस्सा - जो चीज़ इस जीवन शैली में इंसान में सबसे ज्यादा बढ़ रही है वह है इंसान के अंदर का गुस्सा । छोटी- छोटी बातों में भी इंसान गुस्सा करने लगा है इस गुस्से की वजह तनाव, काम का प्रेशर, चिड़चिड़ापन हो सकता है ।  

कम सुनने की क्षमता - कम सुनने की क्षमता जिसको हम नजरअंदाज कर दे रहे है । वह जिन कारणों से बढ़ रही है वह है तेज़ आवाज़, ध्वनि प्रदूषण और घंटो तक हैडफ़ोन का इस्तेमाल । इंसान 20 hz से 20 khz की ध्वनियॉ सुन सकता है उसमें भी एक उम्र के बाद आप कुछ ध्वनियॉ नहीं सुन सकते । परंतु अभी आप जो ध्वनियाँ सुन सकते है उनका पता आप यूट्यूब पर विडियो देख कर भी लगा सकते है वहाँ पर भी 20 से लेकर 20000 hz की आवर्ती के ध्वनि टेस्ट है । इससे आपको कुछ अनुभव हो जायेगा । और हाँ असली समस्या है  तो वह डॉक्टर ही बता सकते है । 

डायबिटीज- पुराने समय में ये बुढ़ापे में होने वाले रोग हुआ करते थे परंतु आज सभी वर्ग के व्यक्तियों में डायबिटीज़ का खतरा रहता है । वैसे तो इसके होने का मुख्य कारण इन्सुलिन की मात्रा में कमी होता है परंतु असंतुलित जीवन शैली जैसे मोटापा, अधिक मात्रा में जंक फ़ूड खाना, मीठा खाना, अधिक चीनी का सेवन,  एक्सरसाइज न करना, शारीरिक निष्क्रियता भी इसको जन्म देती है ।   



असमय बुढ़ापा - अधिक नमक खाने की वजह से असमय बुढ़ापा आ सकता है परंतु  जीवन शैली में क्रोध और चिंताये भी इसको जल्दी ला सकते है । 

हृदय रोग- खानपान की बुरी आदतों के कारण हृदय रोगों का खतरा बढ़ता जा रहा है । जिसमें कम उम्र में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता जा रहा है । 

मानसिक तनाव- आज कल युवाओ में मानसिक तनाव बढ़ता जा रहा है जिसके बढ़ने के कई कारण हो सकते है जैसे काम का बोझ, अकेलापन, पारिवारिक झगड़े । अधिक मानसिक तनाव आगे चलकर मानसिक बीमारियों का रूप ले लेते है । 

मोटापा- मोटापे की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है । इसमें सबसे ज्यादा खानपान की बुरी आदतें और एक्सरसाइज न करना जिम्मेदार है । अत्यधिक मात्रा में जंकफूड, कोल्ड ड्रिंक का सेवन करने से यह बढ़ती जा रही है । 

आधुनिक जीवन-शैली व देखभाल 


जल्दी उठना और जल्दी सोना - वैसे तो कोशिश यही करनी चाहिए की रात को जल्दी सो जाये और सुबह जल्दी उठे । अधिक न सोये, ना ही कम नींद लें । जल्दी उठने के कई फायदे भी होते है जैसे की स्वस्थ हवा मिलती है, इंसान ज्यादा एक्टिव रहता है, सुबह खाली समय मिल जाता है ।   

व्यायाम - अगर आप फिजिकल वर्क नहीं करते है तो आपके लिए यह कही अधिक जरुरी हो जाता है की आप व्यायाम करे । एक्सरसाइज से आप स्वस्थ और निरोगी रहते है मोटापे की समस्या से भी आप निजात पा लेते है और दिल और दिमाग स्वस्थ रहता है । आप डांसिंग को भी अपने जीवन शैली में शामिल कर सकते है । 

संतुलित आहार- असमय खानपान की आदतों से बचे । एक संतुलित आहार का नियम बनाये । कब खाना है और कितना खाना है इस बात का भी ध्यान अवश्य रखें । भूखे न रहे और अत्यधिक भोजन की आदतों से भी बचे । आप अपनी जरुरत के हिसाब से एक भोजन चार्ट बना सकते है और उसे फॉलो करें । फलों और हरी सब्जियों को भी अपने खानपान में शामिल करें । 

स्वास्थ्य परीक्षण  - आज कल मेडिकल के क्षेत्र में बहुत तरक्कियाँ हो चुकी है । फिर भी हम बिना बीमार पड़े स्वास्थ्य परीक्षण नहीं करवाते । कितनो को तो अपना ब्लड ग्रुप भी पता नहीं होता । कम से कम रक्तचाप, डायबिटीज़, यूरिया और खून की जाँच अवश्य करानी चाहिए ।   




No comments:

Post a comment