23 May, 2024

Computer Gaming Office Chairs

 कंप्यूटर चेयर्स में बैठ कर काम करने या ऑनलाइन गेम खेलने का अलग ही आनंद है तथा अगर आपको देर तक कंप्यूटर या लैपटॉप के सामने बैठकर काम करना पड़ता है या नार्मल चेयर में बैठ कर आपके कंधे, गर्दन या कमर में दर्द होने लग जाती है तो ये चेयर्स आपको कुछ आराम पहुँचा सकती हैं  | यहाँ कुछ कंप्यूटर चेयर्स (Computer Chairs) बताई गयी है जिनमें से कुछ आपकी सहायक हो सकती है अगर आप भी एक कंप्यूटर गेमिंग चेयर घर, ऑफिस के लिए ख़रीद रहे हैं |  



 
तो इन कंप्यूटर/गेमिंग चेयर्स में आप कौन सी ख़रीदना चाहेंगे ?



DROGO

#computer #gaming #chair #office #home







17 April, 2024

Insta360 X4

आख़िरकार Insta360 ने अपना नया 360 एक्शन कैमरा लॉन्च कर दिया है । जो है- Insta360 x4

यह 8K 360 डिग्री कैप्चर करता है
इसमें 5nm AI चिप है | 

 




पिछली बार की तरह इसमें भी Invisible सेल्फी स्टिक है जो आपके फुटेज से गायब हो जाती है | आप 72 मेगापिक्सल 360 फोटो खींच सकते हैं |
इसमें 4K60FPS सिंगल-लेंस मोड दिया गया है जिसे आप इसे 360 की जगह सिंगल लेंस की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं |


ME MODE
में आप सेंटर में रहते हैं | वही इसमें आपको फ्लोस्टेट स्टेबिलाइजेशन मिलता है
जिससे आपको स्टेबल फुटेज मिलती है |

इस बार इसमे लेंस के लिए लेंस गार्ड का भी विकल्प मिलता है।
इसमें 2290mAh बैटरी है |

इसमें नया 2.5" टचस्क्रीन है इसके अलावा यह और भी फीचर के साथ आता है |

 
आप चाहें तो इसे खरीद कर सकते हैं - https://amzn.to/4d3cT64

 

07 April, 2024

Ocean of Imagination

 कल्पनाओं का सागर

 

कल्पना समुद्र सी लगती है जैसे कुछ मात्रा में जल निकालने पर समुद्र के जल की मात्रा में कुछ फर्क नहीं पड़ता | वैसे ही मेरी कल्पनाओं की नदियां एक विशाल सागर का निर्माण करती है | 

क्या कल्पनाशील होना महत्वकांक्षी होना है ? 

 क्या बिना प्रयत्न के कल्पना सिर्फ कोरी कल्पनाएं हैं ? 

क्या इन कल्पनाओं के जाल ने व्यक्ति को घेर लिया है ? 

जिस प्रकार सागर में विष और अमृत दोनों हो सकते हैं | उसी प्रकार क्या यह कल्पनाएं मुझे रचनात्मकता दे सकती हैं या क्या मेरी मानसिकता को कल्पनाओं के जाल में फंसा सकती है ? 

ऐसा लगता है कि कल्पनाओं के साथ ऊर्जा का भी विशेष संबंध है चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक | क्या यह मुमकिन है कि कोई व्यक्ति बिना कोई कल्पना किये अपना जीवन जी रहा हो ? तो उसका जीवन आनंदित होगा या व्यर्थ |  

वैसे किसका जीवन व्यर्थ है इसका निर्धारण कौन कर सकता है ? 

हम तो सिर्फ अपने जीवन को आनंद के साथ जी सकते हैं पर आनंद के साथ जीने की कला क्या है ?

 

कुछ महत्वपूर्ण रत्न  

 

माणिक:- https://amzn.to/49qZIc3

नीलम:- https://amzn.to/4alFORl

पन्ना:- https://amzn.to/4cPbwIm

मोती:- https://amzn.to/4cK2JHv

पुखराज:- https://amzn.to/3U6CROH

लेहसुनिया:- https://amzn.to/3QfKwrR


 





 

05 April, 2024

Infinite Beyond End

अंत से भी अनंत

भावनाएं अंत से भी अनंत हैं और जहां पर लगता है ये खत्म हो जाएगी वहाँ से एक शून्य आकाश शुरू हो जाता है | अगर इसमें पीड़ा है तो क्या उस पीड़ा की सीमा ढूंढ पाता हूँ, अगर पहुँच भी जाऊं तो वह फिर से शुरुआती बिंदु प्रतीत होती है | क्या मेरे सुख की भी कोई सीमा है? यह भी तो प्राप्ति के साथ विस्तार करता रहता है | मैं आकाश शून्य हूँ या आकाश अनंत ?


#feeling #life


5 प्लांट जिन्हे आप घर पर, बेडरूम में रख सकते हैं -


मनी प्लांट:- https://amzn.to/4aLwgil

स्नेक प्लांट:- https://amzn.to/43Txndy

वीपिंग फिग:- https://amzn.to/43M7v30

बैम्बू पाम प्लांट:- https://amzn.to/3J4wNA3

स्पाइडर प्लांट:- https://amzn.to/3PPjlnb

30 March, 2024

Soch Ka Dayra

 सोच का दायरा

ऐसा कहा जाता है कि मनुष्य को अपनी सोच का दायरा बढ़ाना चाहिए जिससे विचारों में एक दूर दृष्टि आये और उनके फैसले में एक परिपक्वता आए | कई बार यह दायरा बढ़ाने से व्यक्ति की किसी मामले में पुरानी सोच भी बदल जाती है और वह नई सोच और विचारों को भी अपनाता है पर इसमें कई सवाल भी है |


पहला - क्या सोच का दायरा बढ़ाने में और सोचने में कुछ फ़र्क भी है ? एक व्यक्ति जो सिर्फ सोचता ही रहता है वह आज एक करोड़ कमाने की सोच रहा है, फिर कल सोचता है 1 से क्या होगा 10 करोड़ तो होना ही चाहिए | फिर अगले दिन 10 से क्या होगा 50 तो होने ही चाहिए.... क्या यह व्यक्ति अपनी सोच का दायरा नहीं बढ़ा रहा है?


दूसरा - सोच का दायरा बढ़ाने से कभी कभी ये हमारी मान्यताओं, संस्कृति और समाज में भी परिवर्तन की कोशिश करने लगता है | पर क्या हम इसके लिए राजी हो पाएंगे ?


तीसरा - जब कभी किसी की आलोचना की जाती है कि आपकी सोच का दायरा बहुत छोटा है तो इससे व्यक्ति की कमियों जैसे क्रोध, ईर्ष्या, द्वेष, अहंकार, लोभ, मोह आदि का पता चलता है |
 
अंत में यह लगता है सोच का दायरा इंसान के व्यक्तित्व को निखारने का काम करता है | 

बड़ी पत्तियों वाला कृत्रिम पौधा - https://amzn.to/4czZkuK